तिथि में क्षय वृद्धि

तिथि में क्षय वृद्धि क्यों ?

इस इस प्रश्न का उत्तर जानने से पहले आइए जानते हैं तिथि क्या है? आखिर किस बला का नाम तिथि रखा गया? इसकी आवश्यकता क्या है? इसका वैज्ञानिक महत्व क्या है ? सर्वप्रथम तिथि नामक तत्व को समझने का प्रयास करते हैं । आकाश के सभी पिंड एक दीर्घवृताकार पथ में सतत भ्रमणशील हैं । […]

तिथि में क्षय वृद्धि क्यों ? Read More »

Flat Earth Misconception | क्या धरती गोल नहीं है ?

आज किसी ने प्रश्न किया- क्या सच में पृथ्वी चपटी है? इक्कीसवीं शताब्दी में रहते हुए यह प्रश्न पूछना बहुत हास्यास्पद लगता है । खैर सवाल जब जब जवाब तब तब के लिए मैं हमेशा तैयार हूँ। तो आइए जानते हैं ऐसे कौन से तथ्य हैं, जो साबित करते हैं कि धरती चपटी नहीं है

Flat Earth Misconception | क्या धरती गोल नहीं है ? Read More »

षट्पदी स्तोत्र Launch

ग्रन्थ विवरणी – पंडित ब्रजेश पाठक ‘ज्यौतिषाचार्य’

लेखन और सम्पादन के साथ अभी तक मेरे नाम चार पुस्तकें हो चुकी हैं। जिनमें से दो ग्रन्थ तो ज्योतिष् के ही हैं। आइए क्रमशः इन ग्रन्थों के बारे में जानते हैं। 1. फलित राजेन्द्र : ग्रन्थकार – ब्रजेश पाठक ‘ज्यौतिषाचार्य’पुस्तक की भाषा – हिन्दीपढ़ने के अधिकारी – सभी लोगपुस्तक की स्थिति – सामान्य पवित्रता

ग्रन्थ विवरणी – पंडित ब्रजेश पाठक ‘ज्यौतिषाचार्य’ Read More »

देवोत्थान एकादशी का महत्व एवं सम्पूर्ण पूजन विधि 2023

इस वर्ष 23 नवम्बर 2023 दिन गुरुवार को देवोत्थान एकादशी हो रही है।कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवउठनी एकादशी, देवप्रबोधिनी और देवोत्थान एकदाशी कहा जाता है। इस दिन भगवान विष्णु चतुर्मास की निद्रा से जगते हैं इसलिए इस दिन भगवान विष्णु को जगाने की विशेष पूजा की जाती है। पूजा_विधि प्रबोधिनीएकादशी संक्षिप्त_व्रतकथा…

देवोत्थान एकादशी का महत्व एवं सम्पूर्ण पूजन विधि 2023 Read More »

dhanteras

शुभ_धनत्रयोदशी (धनतेरस / धन्वन्तरि जयन्ती)

आज से ही (10/11/2023 से) पञ्चदिवसात्मक दीपावली पर्व का शुभारंभ होता है। आइए जानते हैं धनत्रयोदशी (धनतेरस / धन्वन्तरि जयन्ती) की महिमा और इस त्योहार को मनाने की शास्त्रीय विधि क्या है। धनत्रयोदशी(धनतेरस) :- यहाँ जो धन शब्द आया है उसे भ्रम के कारण लोग रुपया-पैसा-समृधि समझ लेते हैं। लेकिन वास्तव में यह शब्द आयुर्वेद

शुभ_धनत्रयोदशी (धनतेरस / धन्वन्तरि जयन्ती) Read More »

दीपावली क्यों है सबसे खास ? Dipawali 2023

आइये आज जानते हैं दीपावली का महत्त्व और उसकी विशेषता जो उसे सभी पर्वों से विशिष्ट बनाती है। “दीपानाम् आवली: दीपावली:” यहाँ षष्ठी-तत्पुरुष समास है, जिसका अर्थ है दीपों का समूह। इस दिन पूरा देश दीपों की जगमगाहट से चमकता रहता है। यह पर्व पाँच दिनों तक मनाया जाता है, जो कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी से

दीपावली क्यों है सबसे खास ? Dipawali 2023 Read More »

चंद्रग्रहण 28-29 अक्टूबर 2023 की सम्पूर्ण जानकारी | Partial lunar Eclipse

आप सब को ज्ञात ही होगा कि आश्विन शुक्ल पूर्णिमा दिन शनिवार तदनुसार 28 अक्टूबर 2023 को भारतवर्ष में चंद्रग्रहण लगने वाला है। आइए आज इस ग्रहण की विशेषताओं के बारे में जानते हैं साथ ही ग्रहण संबंधी कृत्याकृत्य सूतक तथा अन्य वैज्ञानिक और धर्मशास्त्रीय जानकारियां भी प्राप्त करेंगे।  ग्रहण कभी अकेला नहीं आता, सूर्य ग्रहण हमेशा

चंद्रग्रहण 28-29 अक्टूबर 2023 की सम्पूर्ण जानकारी | Partial lunar Eclipse Read More »

Man ki Baat – भारतीय संस्कार पर

Man ki Baat – भारतीय संस्कार, भारतीय दर्शन और वर्तमान चिकित्सा पद्धति विवाद पर मेरे मन की बात   Man ki baat – भारतीय संस्कार, भारतीय दर्शन और वर्तमान चिकित्सा पद्धति विवाद पर मेरे मन की बात (Man ki Baat) आपसे साझा कर रहा हूँ | आजकल एक कथन बहुत प्रचलन में है कि भारतीय चिकित्सा

Man ki Baat – भारतीय संस्कार पर Read More »

भारतीय ज्योतिष में पृथ्वी स्थिर और सूर्य गतिमान कैसे ?

भारतीय ज्योतिष में पृथ्वी स्थिर और सूर्य गतिमान कैसे ?   किसी जिज्ञासु ने निम्नलिखित प्रश्न पूछा है और मुझे लगता है की आप में से बहुत सारे लोग इस प्रश्न/संशय का निराकरण अवश्य जानना चाहते होंगे | क्या सूर्य स्थिर ग्रह है (is sun stationary) ? आइये जानते हैं | प्रश्न- श्रीमान नमस्कार !

भारतीय ज्योतिष में पृथ्वी स्थिर और सूर्य गतिमान कैसे ? Read More »

क्या शनि विरोधाभासी फल प्रदान करता है ?

जिज्ञासु का प्रश्न – ज्योतिषीय दुविधा एकतरफ ज्योतिषीवर्ग कहता है कि शनि ग्रह मंदता, आलस्य और विलंब के कारक है तो वही दूसरी ओर यही ज्योतिषी वर्ग कहता है कि शनि देव कठोर परिश्रम भी करवाता है अब ये दो विरोधाभासी बाते कैसे संभव है? जिसका गुणधर्म ही विलंब और आलस्य हो वो भला कठोर

क्या शनि विरोधाभासी फल प्रदान करता है ? Read More »

Scroll to Top